पुलिस अधिकारी का जीवन| police adhikari ka jivan | life of a police constable in india| life of a police officer| life of a policeman




पुलिस अधिकारी का जीवन। पुलिस की नोकरी केसी होती है| life of a policeman

 
पुलिस अधिकारी का जीवन| police adhikari ka jivan | life of a police constable in india| life of a police officer| life of a policeman
police flag
            हेलो दोस्तो, आज ये लेख पुलिस अधिकारी के जीवन पर है कि वो अपने जीवन में पुलिस की डयूटी के समय किन-किन मुश्किलों का सामना करते है। जब कोई पुलिस की नोकरी के बारे में सोचता है तो वो उसे वहुत ही आकर्षक पाता है। उसे पुलिस कि नोकरी की जमीनी हकीकत का पता नहीं होता है,लेकिन जब आप पुलिस की नोकरी में नियुक्त होकर आते हे तो पता चलता है कि पुलिस कि नोकरी के लिए जो सोच थी वास्तव में यह नोकरी की जमीनी हकीकत से अलग है। पुलिस की नोकरी में वहुत ज्यादा समय अपने कर्तव्य को देना पडता है इसलिए इस नोकरी की कर्तव्य का प्रतिदिन का समय निश्चित नहीं होता है। पुलिस की नोकरी आपातकालीन नोकरी की तरह होती है जिसमें काम का समय कोई निश्चित समय नहीं होता है। आपको रात ओर दिन कर्तव्य को अंजाम देना पड़ता है। इसका सबसे अच्छा उदाहरण आईपीएस श्री अजित डोभाल है जिन्होंने आईपीएस होते हुए पाकिस्तान में एक मुस्लिम बनकर जासूसी की थी। इन्हें पंजाब,जम्मू & कश्मीर , उत्तर पूर्वी राज्यों का विशेषज्ञ माना जाता है।



            पुलिस की नोकरी में अगर आप वास्तव में कुछ चुनोतिपूर्ण करने लिए आये हो तो ये नोकरी आपके लिए सवसे बेस्ट है। इस नोकरी में आप जनता के प्रत्यक्ष संपर्क में रहते हो और आप जनता के लिए कुछ अलग करना चाहते हो तो आप जनता के आंसुओं को पोछ सकते हो ।मै चेलेंज के साथ ये बोल सकता हूँ कि किसी नोकरी में इस तरह की जनता की सेवा का अवसर नहीं मिलेगा,जितना पुलिस की सेवा में मिलता है। पुलिस की नोकरी जनता के दुखों ,शिकायतों , पीड़ाओं को दूर करने के लिए होती है। आप वहुत ही शानदार काम कर समाज ,जनता और देश के लिए वहुत कुछ कर सकते हो। आपके पास करने को वहुत कुछ होता है जिस से आप एक शानदार काम कर अपनी ओर समाज की नजरों में सम्मान पा सकते हो।

पुलिस की नोकरी ओर उसके कार्य


कानून व्यवस्था

               यह पुलिस का सवसे प्राथमिक कामों में से एक है । पुलिस इस बात को लागू करती है कि किसी भी जगह पर कोई लड़ाई झगड़ा न हो। हर जगह शांति बनी रहे,जैसे वीआईपी डयूटी, मेला डयूटी, कुम्भ ड्यूटी, पोस्टमॉर्टेम ड्यूटी, आदि इसके कुछ उदाहरण हैं। इसके लिए पुलिस ओर भी वहुत सारे काम करती है। जैसे

अपराध कि पहचान करना तथा उसे रोकना


             पुलिस अपराध को होने से पहले ही उसे रोकने का काम करती है ताकि शांति व्यवस्था बनी रहे । इसको इस तरह से समझा जा सकता है कि कहीं क्षेत्र में कोई हत्या ,रैप,डकैती ओर लूट आदि होने से पहले ही उसे पहचान कर उसे रोकने को हर संभव प्रयास करना।

 अपराध की विवेचना करना।

            जब कोई अपराध घटित हो जाता है तो अपराध घटित होने के बाद पुलिस शिकायत को पंजीकृत करती है और उस पर जांच कर कारवाही करती है ओर जांच सही पाए जाने पर प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कर विवेचना की कारवाही करती है।

अपराध का नियंतरण करना

            जब अपराध वहुत बढ़ जाता है तो पुलिस उसे रोकने के लिए हर तरह तरह के उपाय करती है ताकि अपराध को काम किया जा सके जैसे रात्रि गस्त, जासूसी करना आदि

 पुलिस की नोकरी में डयूटी का समय का निश्चित न होना


           पुलिस की नोकरी में ड्यूटी के घंटे निर्धारित नहीं होते है,जिस तरह से ओर विभागों में 8 घंटे निर्धारित होते है। जैसा कि मैने वताया की पुलिस की नोकरी में आपातकाल  कब आ जाये पता नहीं चलता है। इस कारण पुलिस को 12 घंटे तो डयूटी करना ही है वल्कि मुलजिम की सुराग रसि पता रसि में कई कई दिन अपराधियों को धर पकड़ के लिए डयूटी लगातार करना पड़ता है। क्षेत्र में कोई घटना घट जाए तो उसकी जिम्मेदारी उस क्षेत्र के पुलिस अधिकारी की होती है। इस कारण पुलिस को वहुत ही रात दिन सक्रिय रहना पड़ता है। पुलिस को आंधी हो तूफान हो या वारिश हो ,सर्दी हो ,गर्मी हो या बाढ़ हो हर समय समाज में शाननदार काम करके अपने पद के कर्तव्यों का निर्वहन करना पड़ता है। जो लोग निरे आलसी है ओर जो अपनी नोकरी को शांतिपूर्ण ठंग से काटना चाहते है ये नोकरी उनके लिए विल्कुल नहीं है।

           पुलिस की नोकरी को वहुत कठिन और चुनोतिपूर्ण नोकरी माना जाता है इसमें कोई संदेह नहीं कि पुलिस की नोकरी वहुत ही कठिन और चुनोतियों से भरपूर नोकरी होती है। लेकिन इस वात से इंकार नहीं किया जा सकता कि पुलिस की नोकरी वहुत ही सम्मान जनक नोकरी होती है।आप इस नोकरी में वहुत लोगों के दुख दर्द का निवारण कर सकते हो ।इस नोकरी से समाज में वहुत ही सम्मान प्राप्त कर सकते हो ,जैसे प्रथम महिलाआईपीएस किरण वेदी, के0पी0एस0 गिल ,अजीत डोभाल आदि ओर भी पुलिस अफसर जिन्होंने अपने कैरियर में वहुत ही शानदार काम किया किया है।ये लोग आगे आने वाले लोगो की पीढ़ी के लिए आदर्श है। इन लोगो की के जीवन सेब प्रेरणा लेकर न जाने कितने आईपीएस वन गए कितने लोग ओर वनेंगे।


Post a Comment

0 Comments