Roznamcha Aam Kya Hai | रोजनामचा आम क्या है | General Diary of Police in India




Roznamcha Aam Kya Hai | रोजनामचा आम क्या है | General Diary of Police in India

मस्कार दोस्तों मैं इस लेख में आपको पुलिस थाना के बहुत ही महतवपूर्ण दस्तावेज रोज़नामचा आम के बारे में बताऊंगा । इस लेख से आप जानोगे कि-
रोजनामचा आम क्या है ?
रोज़नामचा आम में क्या क्या लिखा जाता है ?
किस रैंक या पद का पुलिस अधिकारी रोज़नामचा आम को लिख सकता है ?
किस रैंक के पुलिस अधिकारी की रवानगी वापसी रोज़नामचा आम में होती है ?
रोजनामचा आम  क्या है तथा इसमें क्या क्या लिखा जाता है ?
किस रैंक का पुलिस अधिकारी सामान्य दैनिकी से बाहर रखा गया है ?
रोज़नामचा आम में कुछ महत्वपूर्ण रपटों का विवरण ?
यदि आप रोज़नामचा आम के बारे में कुछ भी नहीं जानते है तो आशा करता हु की आप इस लेख से रोज़नामचा आम के बारे में बहुत कुछ जान जाओगे ।

1.रोजनामचा आम क्या है तथा इसमें क्या क्या लिखा जाता है ?

रोजनामचा आम को डीडी एंट्री (डेली डायरी एंट्री) या जनरल डायरी या हिंदी में सामान्य दैनिकी भी कहा जाता है। रोज़नामचा आम  पुलिस थाने का अहम दस्तावेज होता है। इसमें थाने में होने वाली हर महत्वपुर्ण घटना दर्ज की जाती है।  एफ.आई.आर.,शिकायतकर्ता की तहरीर, दबिश, नॉन कॉग्निजबले अपराध, गिरफ्तारी, पुलिसकर्मियों की आमद-रवानगी,पुलिस कर्मचारियों की ड्यूटी या छुट्टी से गैरहाज़िरी, जब्ती, सामान की बरामदगी, मेडिकल अवकाश, मालखानों में जमा माल या  सामान, मुल्जिम की तलाशी से मिला सामान, कानून व्यवस्था हेतु जाप्तों का विवरण, थाना पर तैनात सभी कर्मचारियों की ड्यूटी, सुपुर्दगीनामा  एवं अन्य, इसमें दर्ज की जाती है।


रोजनामचा आम क्या है | Roznamcha Aam  ( रोजनामचा आम )- उत्तर प्रदेश पुलिस में | General Diary of Police in India
Roznamcha Aam




2.किस रैंक या पद का पुलिस अधिकारी रोज़नामचा आम को लिख सकता है ?

 उत्तर प्रदेश पुलिस में कांस्टेबल तथा हेड कांस्टेबल को जो बीट पर तैनात होते है रोज़नामचा आम लिखने का अधिकार नहीं होता है। यदि कांस्टेबल या हेड कांस्टेबल को पुलिस अधीक्षक द्वारा थाना पर कार्यालय कार्य हेतु तैनात किया जाता है तो वह रोज़नामचाम को लिखने के लिए तथा रखरखाव के लिए उत्तरदायी होते है । ऐसे कांस्टेबल को सहायक लेखक, कांस्टेबल मोहर्रिर, कांस्टेबल क्लर्क या मुंशी भी कहा जाता है तथा हेड कांस्टेबल जो कार्यालय में तैनात होता है उसे हेड मोहर्रिर कहा जाता है । वह कार्यालय के सभी कार्यो के लिए उत्तरदायी होता है ।
रोज़नामचा आम को उत्तर प्रदेश पुलिस में उपनिरीक्षक से उच्च अधिकारी को लिखने का अधिकार प्राप्त होता है। कहने का तात्पर्य है की दरोगा से उच्च अधिकारी जैसे निरीक्षक या सर्किल अफसर आदि सामान्य दैनिकी को लिख सकता है ।

3.किस रैंक के पुलिस अधिकारी की रवानगी वापसी रोज़नामचा आम में होती है?

रोज़नामचा आम में कांस्टेबल से निरीक्षक तक के पुलिस अधिकारी की रवानगी वापसी की जाती है जैसे छुट्टी पर जाने ओर आने पर चाहे छुट्टी किसी भी प्रकार की क्यों न हो, ड्यूटी पर आने जाने पर रवानगी वापसी तथा स्थानांतरण पर आने जाने पर  इत्यादि सामान्य दैनिकी में की जाती है ।

4.किस रैंक का पुलिस अधिकारी सामान्य दैनिकी से बाहर रखा गया है?

सर्किल अफसर या उससे उच्च पद के अधिकारी को सामने दैनिकी से अलग रखा गया है ।
आपकी जानकारी के लिए बता दूँ  कि राजपत्रित अधिकारी को सामान्य दैनिकी से मुक्त किया गया है यानि उन्हें अपनी ड्यूटी और छुट्टी पर जाने, स्थानांतरण पर आने जाने पर  और आने के लिए रोज़नामचा आम में रवानगी और वापसी की जरुरत नहीं होती है ।

5.रोज़नामचा आम में कुछ महत्वपूर्ण रपटों का विवरण

एफ.आई.आर का खुलासा,शिकायतकर्ता की तहरीर का दाखिला, गिरफ़्तारी के लिए दबिश, नॉन कॉग्निजबले अपराध जिनमे पुलिस बिना कोर्ट कि अनुमति से कार्यवाही नहीं कर सकती है, अभियुक्त की गिरफ्तारी, पुलिसकर्मियों की आमद-रवानगी (छुट्टी या ड्यूटी या स्थानांतरण से),पुलिस कर्मचारियों की ड्यूटी या छुट्टी से गैरहाज़िरी, किसी सामान की जब्तीका विवरण, सामान की बरामदगी, मेडिकल अवकाश का इंद्राज, मालखानों में जमा माल या  सामान, मुल्जिम की तलाशी से मिला सामान, मुकदमो में मिले माल, कानून व्यवस्था हेतु जाप्तों का विवरण, थाना पर तैनात सभी कर्मचारियों की ड्यूटी, सुपुर्दगीनामा इत्यादि महत्वपूर्ण रपटों को इसमें लिखा जाता है।


रोज़नामचा आम को रात के 00.05 पर प्रारम्भ किया जाता है तथा उस दिन रात को 12.00 बजे पर बंदी किया जाता है ।

Read also...
  1. तीन तलाक अब अपराध-सरकार का अध्यादेश | Triple Talaq ordinance, Now three-year jail term 
  2. भारतीय पुलिस अधिकारी की रैंक और बेज | Indian Police officer Rank and Badges | Indian Police officer Rank and Badges in Uttar Pradesh
  3. FIR (First Information Report) क्या है| Zero (0) FIR क्या है | FIR Kaise Darj Kare  
  4. पुलिस चालान के नियम तथा नागरिकों के अधिकार | Citizen Rights during Police Challan


Post a Comment

0 Comments