यूपी पुलिस कांस्टेबल का प्रशिक्षण कार्यक्रम 2018 | Police Constable Ki Training Kesi Hoti Hai



यूपी पुलिस कांस्टेबल का प्रशिक्षण कार्यक्रम 2018 | Police Constable Ki Training Kesi Hoti Hai


ज मैं सिविल पुलिस कांस्टेबल और पीएसी (प्रांतीय सशस्त्र कॉन्स्टबुलरी) कांस्टेबल के प्रशिक्षण कार्यक्रम के बारे में बताऊंगा। पुलिस में चयन के बाद, क्या प्रशिक्षण कार्यक्रम होता है? इसके बारे में बिस्तर से बताऊंगा। उत्तर प्रदेश में पुलिस कांस्टेबल प्रशिक्षण अवधि 12 महीने थी, लेकिन पुलिस में कॉन्स्टेबल की अधिक खाली सीटों के कारण, प्रशिक्षण अवधि को घटाकर 06 महीने कर दिया गया है। प्रशिक्षण के दौरान, पुलिस कॉन्स्टेबल को "रिक्रूट कांस्टेबल" कहा जाता है। प्रशिक्षण के दौरान पुलिस रिक्रूट कांस्टेबल stipend  प्राप्त करते थे किन्तु बर्ष 2011 से बेसिक सैलरी तथा उस पर मॅहगाई भत्ता (अन्य भत्ता नहीं ) प्राप्त करते है| 

यूपी में, कॉन्स्टेबल के पद पर भर्ती होने के लिए दो तरीके हैं -
1. प्रत्यक्ष भर्ती परीक्षा के माध्यम से
2. मृत पुलिस कर्मचारियों के आश्रितों के माध्यम से

 यूपी पुलिस कांस्टेबल सीधी भर्ती की चयन प्रक्रिया, 2018 अधिसूचना के मुताबिक, पुलिस कॉन्स्टेबल चयन प्रक्रिया में चार चरण हैं-
1. ऑनलाइन लिखित परीक्षा
2. दस्तावेज़ सत्यापन और शारीरिक मानक परीक्षा (DV & PST)
3. शारीरिक दक्षता परीक्षण (PET)
4. चिकित्सा परीक्षा और मेरिट सूची


आप यूपी पुलिस कॉन्स्टेबल सीधी भर्ती की प्रक्रिया को विस्तार से पढ़ सकते हैं। यूपी पुलिस कांस्टेबल की चयन प्रक्रिया
पुलिस कांस्टेबल का प्रशिक्षण दो भागों में वर्गीकृत किया जा सकता है; पहला जेटीसी (JTC) है और दूसरा आरटीसी (RTC) है। 
यूपी पुलिस कांस्टेबल का प्रशिक्षण कार्यक्रम 2018 | Police Constable Ki Training Kesi Hoti Hai
यूपी पुलिस कांस्टेबल का प्रशिक्षण कार्यक्रम 2018 | Police Constable Ki Training Kesi Hoti Hai

JTC (Joining Training Course) of Police Constable:

इस प्रशिक्षण का मुख्य उद्देश्य आरटीसी प्रशिक्षण के लिए तैयार करना है। जेटीसी प्रशिक्षण की औसत अवधि एक महीने है। प्रशिक्षण का मुख्य फोकस केवल मूल पीटी, परेड, ड्रिल, प्लैटून और स्क्वाड का गठन, बेसिक ड्रिल, सावधान-विश्राम,  दौड़,  रैंक और उनको अभिवादन,  बुनियादी अनुशासन इत्यादि सिखाया जाता है। जिला में जेटीसी किया जाता है जहां कॉन्स्टेबल की पोस्टिंग होती है।

आरटीसी (रिजर्व ट्रेनिंग कोर्स- Reserve Training Course ) of Police Constable:

 पहले प्रशिक्षण की औसत अवधि 12 महीने थी, लेकिन पुलिस विभाग में बहुत सी रिक्त पदों के कारण, प्रशिक्षण अवधि को उत्तर प्रदेश में 6 महीने तक घटा दिया गया है, जिससे ज्यादा संख्या में कॉन्स्टेबल पुलिस विभाग में शामिल हो सकें  और रिक्त सीटों को कम किया जा सकें। आरटीसी में प्रशिक्षण के सभी पहलू शामिल हैं, हम इसे पूर्ण प्रशिक्षण कह सकते हैं। आरटीसी को दो हिस्सों में वर्गीकृत किया जा सकता है जैसे-
1- Indoor (इंडोर)
2- Outdoor (आउटडोर)

इंडोर (Indoor) of Police Constable:

इनडोर में पढ़ाई को शामिल किया जाता है जैसे नियमों और विनियमों, आईपीसी, सीआरपीसी, साक्ष्य अधिनियम, पुलिस विनियमन अधिनियम, अनुशासन, कर्तव्यों, मानवाधिकार, गिरफ्तारी, सम्मन, वारंट, पुलिस ड्रिल मैनुअल, दहेज प्रतिषेध अधिनियम, मोटर वाहन अधिनियम, एससी और एसटी अधिनियम आदि
Read also..UP POLICE SI SELECTION PROCESS

Youtube video on this article -


पढ़यक्रम (इंडोर) Syllabus Indoor:

 भारतीय राजनीति और पुलिस संगठन

भारतीय संविधान, अपराध का बचाव, अपराध, बीट, गश्त ढांचे, कानून और व्यवस्था, आंतरिक सुरक्षा स्टेशन, सांप्रदायिक और राजनीतिक हिंसा, अतिवादी हिंसा की जांच

पुलिस प्रशासन और सेवा मामले

वेतन और भत्तेस्थानांतरण नीति, प्रक्रियाएंपुलिस आचरण, शिक्षा और सजा नियम, हथियार और गोला बारूद, सेवानिवृत्ति लाभ, यूनिट से संबंधित लेख, पुरस्कार और पुलिस के लिए सजावट, समान के रखरखावकार्यालय, परिवार की देखभाल, कल्याण कार्यक्रम, प्रशासनिक अभिलेखों,, पुलिस मुख्यालय परिसर, क्वार्टर और पर्यावरण का रखरखाव

पुलिस और नैतिक मूल्य

 पुलिस दृष्टिकोण में आचरण, पुलिस कार्य में नेतृत्व, तनाव प्रबंधन, समय प्रबंधन, बेहतर निष्पादन के लिए टीमों में काम करना

पुलिस और मानवाधिकार

मानवाधिकार कानून और सम्मेलन, कस्टडी के तहत अपराधियों का उपचार, मानवाधिकार आयोग के नियम

सामाजिक समूहों के साथ पुलिस संबंध

अपराध, अपराधियों और पीड़ितों, पुलिस और औद्योगिक श्रम, पुलिस और कमजोर वर्गों, पुलिस और लोक प्रतिनिधियों, पुलिस और कृषि श्रम, पुलिस और अन्य सरकारी कार्यकर्ताओं, पुलिस और मीडिया, पुलिस और व्यावसायिक समूहों, पुलिस की निगरानी के लिए पुलिस व्यवहार को समझना संघर्ष और समझौता, पुलिस और एंटी-सोशल एलिमेंट्स एंड ट्रबल मेकर्स, नेटवर्क पॉलिसिंग, टेक्निक्स में लेनदेन

विधि(LAW)

भारतीय दंड संहिता 1860, आपराधिक प्रक्रिया संहिता 1 9 73, भारतीय साक्ष्य अधिनियम 1872

स्थानीय कानून और राज्य पुलिस मैनुअल

निवारक और जासूस कर्तव्यों, बीट और पेट्रोल, बीट और पेट्रोल ड्यूटी, शहरी बीट,गांव बीट, शहरी क्षेत्र में नाइट बीट सिस्टम, ग्रामीण क्षेत्र में नाइट बीट सिस्टम, मेले में बीट्स और उत्सव, जांच, खोज, बाहरी लोगों की तलाश, हिस्ट्री शीटर की पूछताछ और जांच, घटक और संदिग्ध, आपराधिक खुफिया संचय, ट्रेनों में बीट्स और अन्य

कानून और व्यवस्था / लोक आदेश और आंदोलन: तरीके और रणनीतियां

सुरक्षा कर्तव्यों, पुलिस का सामान्य कर्तव्य, रिकॉर्ड्स का रखरखाव, सामान्य दैनिकी और  पुलिस काम करने का महत्व, सूची में शामिल होना, बीट किताब और अन्य संबंधित रिकॉर्ड आदि 

अपराध और अपराधियों का प्रबंधन

जांच, वैज्ञानिक तरीके और वैज्ञानिक सहायता, जांच, फिंगर प्रिंट और फुट प्रिंट, फील्ड और ऑपरेशनल ट्रेनिंग मॉड्यूल, डे बीट / पेट्रोल ड्यूटी, नाइट बीट / पेट्रोल ड्यूटी, वॉच ड्यूटी, एस्कॉर्ट ड्यूटी, कोर्ट ड्यूटी, पीछा और जब्त, चिकित्सा में अपराध सहायता, राहत, आपातकाल और अग्निशमन आदि 
Read also...

 आउटडोर (Outdoor)

आउटडोर में प्रशिक्षण की सभी शारीरिक गतिविधियां शामिल हैं।

बिना असलाह ड्रिल-Drill without Arms

ड्रेसिंग, तीनो तीन में आकार बदलना , चलना और मोड़ना, तेजी से और मोड़ में चलना इत्यादि

ओडी -2 Drill with Arms

राइफल के साथ मुड़ना, ड्रेसिंग (सज जा), बाएं से ड्रेसिंग- राइट से ड्रेसिंग और सेंटर से ड्रेसिंग, बट सलाम आदि 

ओडी-III गार्ड और सेंट्रीज

सेरेमोनियल और सामरिक गार्ड, पोस्ट सुरक्षा, दिन और रात तक गार्ड निरीक्षण शुरू करना आदि 

ओडी -4 हथियार प्रशिक्षण Arms Training

.303 Rifle
H.E.36 Grenade
G.F. Rifle and Discharger Cup
A.K. – 47 /56 Rifle
9mm Carbine / 9mm Stan-gun
7.62 mm SLR
ओडी-VII भीड़ नियंत्रण / मोब संचालन
एमएपी रीडिंग, फील्ड क्राफ्ट एंड विस्फोटक (MAP Reading, Field Craft & Explosives)
ओडी-VII यातायात ड्रिल
ओडी- VIII  Unarmed Combat & Self-defence Techniques (आत्मरक्षा तकनीकें)
ओडी- Firing Practice (फायरिंग प्रैक्टिस)

प्रशिक्षण की दैनिक दिनचर्या (Daily Routine Of Training):

सुबह के समय 5 से 6 बजे मौसम के अनुसार; प्रशिक्षण शुरू होता है। रिक्रूट कांस्टेबल परेड मार्च-अप से पहले  ग्राउंड पर पहुँच जाते हैं, परेड का मार्च-अप 15 मिनट बाद होता है। सुबह का प्रशिक्षण 8.45 से 9.00 बजे तक जारी रहता है। ड्रिल और पीटी के लिए चार पीरियड होते है, पीटी के लिए दो और ड्रिल के लिए दो पीरियड होते है और प्रत्येक पीरियड के बिच में 10 मिनट अंतराल होता है, लेकिन अब कुल पीरियड की संख्या अलग हो सकती है। नाश्ते के लिए सुबह 9 बजे से 10 बजे का समय होता है और १० बजे से इनडोर कक्षाओं के लिए तैयार होकर जाना पड़ता है। इनडोर कक्षा की अवधि 10 बजे से 2 बजे तक होती है। शाम के समय 4 बजे से पीटी, ड्रिल, योगा, खेल इत्यादि का प्रशिक्षण होता है और रविवार या राजपत्रित अवकाश में फटिक(श्रम दान)  होती है जिसमें परेड ग्राउंड की सफाई, सड़क के किनारे सफाई, घास काटने आदि किया जाता है। गुरुवार सांयकाल को भी श्रम दान करना होता है ।
Read also…
  1. श्री विजय गुर्जर सक्सेस स्टोरी -कांस्टेबल तो IPS
  2. श्री वरुण कुमार वरणवाल सक्सेस स्टोरी - टायर पंक्चर शॉप तो IAS
  3. श्री अंसार शैख़ सक्सेस स्टोरी - ऑटो ड्राइवर के बेटे का आईएएस का सफर 
  4. दहेज़ उत्पीड़न में  तुरंत गिरफ़्तारी,सुप्रीम कोर्ट का  निर्णय 
  5. समलैंगिकता अपराध नहीं-सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक निर्णय
  6. अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति अधिनियम(अत्याचार निवारण) संशोधन 2018मुख्य प्रावधान तथा सुप्रीम कोर्ट का निर्णय



यूपी पुलिस कांस्टेबल का प्रशिक्षण कार्यक्रम 2018 | Police Constable Ki Training Kesi Hoti Hai यूपी पुलिस कांस्टेबल का प्रशिक्षण कार्यक्रम 2018 | Police Constable Ki Training Kesi Hoti Hai Reviewed by YourPoliceGuide on September 26, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.