प्राथमिकी (FIR) के पंजीकरण के समय पुलिस द्वारा प्रारंभिक जाँच का दायरा- Suprme Court Landmark Judgement 2013

क्या पुलिस अधिकारी प्रत्येक सूचना पर प्राथमिकी (FIR) के पंजीकरण करने के लिए वाध्य है?

माननीय सर्वोच्च न्यायालय समक्ष एक जनहित याचिका आयी  जिस याचिका पर विचार किया गया, वह जनहित से सम्बंधित थी। माननीय सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ को दो बातों पर विचार करना था-
  1.  कि क्या "एक पुलिस अधिकारी दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 154 के तहत कोई सूचना प्राप्त करने पर प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज करने के लिए बाध्य है या नहीं, 
  2. " एक संज्ञेय अपराध या पुलिस अधिकारी को ऐसी शिकायत की सत्यता का परीक्षण करने के लिए "प्रारंभिक जांच" करने की शक्ति है?  या नहीं।
एक बड़ी संख्या में भिन्न मतों के मद्देनजर, सभी संबंधित न्यायालयों, जांच एजेंसियों और नागरिकों के लाभ के लिए एक बड़ी बेंच द्वारा स्पष्ट निर्णय और कानून और स्पष्टीकरण का स्पष्टीकरण होना महत्वपूर्ण था।

    माननीय सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ (वर्ष 2013)

    जिसमें मुख्य न्यायाधीश पी. सदाशिवम, न्यायमूर्ति बी.एस. चौहान, न्यायमूर्ति रंजना प्रकाश देसाई, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति एस ए बोबड़े शामिल हैं.
    Must Read...

    1. FIR (First Information Report) क्या है | FIR kaise darj kare  
    2. Zero FIR (शून्य प्राथमिकी) किसे कहते है | पुलिस #ZeroFIR (#0FIR) पर कैसे कारवाही करती है



    प्राथमिकी (FIR) के पंजीकरण के समय पुलिस द्वारा प्रारंभिक जाँच का दायरा- Suprme Court Landmark Judgement 2013 | scope of inquiry during registration of FIR

    क्या था मामला?

    उत्तर प्रदेश में नाबालिग लड़की के अपहरण से संबंधित एक मामले में फरवरी 2012 में न्यायमूर्ति दलवीर भंडारी की अध्यक्षता वाली तीन न्यायाधीशों की पीठ के हवाले से न्यायालय का निर्देश आया। पीड़िता की मां ने अदालत के सामने चुनौती दी कि अपहरणकर्ताओं के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने से इनकार कर दिया। माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने भारत के राज्यों का प्रतिनिधित्व करने वाले विभिन्न वकील की सुनवाई तथा  राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सुनवाई के बाद इस मामले को संविधान पीठ के पास भेज दिया।

    संदर्भित मामले में पुनः बता दूँ कि संवैधानिक पीठ द्वारा विचार किया गया:-
    1.  कि क्या "एक पुलिस अधिकारी दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 154 के तहत कोई सूचना प्राप्त करने पर प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज करने के लिए बाध्य है या नहीं, 
    2. " एक संज्ञेय अपराध या पुलिस अधिकारी को ऐसी शिकायत की सत्यता का परीक्षण करने के लिए "प्रारंभिक जांच" करने की शक्ति है?  या नहीं।
    इस विषय पर YouTube वीडियो की Video देखें-


    याचिकाकर्ता (वादी) तथा प्रतिवादी की पैरवी मय न्यायिक निर्णय

    पहला याचिकाकर्ता की ओर से यह दावा किया गया था कि पुलिस थाने के प्रभारी अधिकारी द्वारा एक संज्ञेय अपराध का खुलासा होने शिकायत मिलने पर, पुलिस के लिए संहिता की धारा 154 के तहत प्राथमिकी दर्ज करना आवश्यक है। उपरोक्त मामलें में हरियाणा राज्य बनाम भजनलाल, रमेश कुमारी बनाम राज्य (दिल्ली का एनसीटी) और प्रकाश सिंह बादल बनाम पंजाब राज्य का निर्णय दिया। 

    दूसरी ओर राज्य की ओर से तर्क दिया गया था कि एक पुलिस स्टेशन के एक अधिकारी को कानून के तहत बाध्य नहीं किया जाता है. एक संज्ञेय अपराध की सूचना प्राप्त होने पर (शिकायत) पुलिस इस मामलें को दर्ज़ करने के लिए बाध्य नहीं है, बल्कि विवेक निहित है। उपरोक्त मामलों में लगाए गए आरोपों की सत्यता के संबंध पुलिस प्रारंभिक जांच करने के लिए स्वतंत्र है। इस मामलें में उन्होंने सिराजुद्दीन बनाम मद्रास राज्य, सेवी बनाम तमिलनाडु राज्य, शशिकांत बनाम केंद्रीय जांच ब्यूरो,  और राजिंदर सिंह कटोच बनाम चंडीगढ़ एडमं आदि का हवाला दिया। 

    संज्ञेय अपराध वे होते हैं जिनमे तीन साल या उससे अधिक की सजा होती है और जहां एक पुलिस या जांच अधिकारी वारंट के बिना किसी आरोपी को गिरफ्तार कर सकता है।

    संविधान पीठ द्वारा दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 154 की व्याख्या 

    संविधान पीठ के समक्ष एकमात्र प्रश्न संहिता की धारा 154 की व्याख्या से संबंधित था साथ साथ धारा 156 और 157 पर भी विचार करना था।

    इस संबंध में एक क़ानून की व्याख्या के साथ-साथ तर्कों को सुनने के बाद, माननीय सर्वोच्च न्यायालय ने पंजीकरण या अपंजीकरण के संबंध में निर्णय लिया, यदि पीड़ित या प्रथम शिकायतकर्ता द्वारा पुलिस स्टेशन को दी गई जानकारी एक संज्ञेय अपराध की है तो ऐसे मामलों में, प्राथमिकी दर्ज करना अनिवार्य है। हालांकि, अगर दी गई शिकायत में कोई संज्ञेय अपराध नहीं किया जाता है, तो एफआईआर को तुरंत दर्ज करने की आवश्यकता नहीं है और पुलिस यह पता लगाने के लिए एक प्रारंभिक जांच कर सकती है कि क्या संज्ञेय अपराध किया गया है।

    इस तरह की प्रारंभिक जांच समयबद्ध होनी चाहिए और एक सप्ताह से अधिक नहीं होनी चाहिए।

    नवंबर 2013 में भारत के माननीय सर्वोच्च न्यायालय की संवैधानिक पीठ द्वारा पारित एक ऐतिहासिक फैसले में, यह माना गया है कि पुलिस को दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 154 के तहत एक संज्ञेय अपराध की कोई भी सूचना प्राप्त करने पर एफआईआर दर्ज करनी चाहिए ।

    माननीय संवैधानिक पीठ ने अपने निष्कर्ष और निर्देश 

    यदि सूचना या शिकायत ने स्पष्ट रूप से एक संज्ञेय अपराध के होने का संकेत दिया है, तो एक प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए। माननीय संवैधानिक पीठ ने अपने निष्कर्ष और निर्देश नीचे दिए हैं:-

    (i) यदि आपराधिक मामलों की जानकारी संज्ञेय अपराधों के कमीशन का खुलासा करती है और इस तरह के मामले में कोई प्रारंभिक जांच स्वीकार्य नहीं है, इन मामलों में आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 154 के तहत एफआईआर दर्ज करना अनिवार्य है।

    (ii) यदि पुलिस स्टेशन में प्राप्त जानकारी संज्ञेय अपराध का खुलासा नहीं करती है लेकिन जांच की आवश्यकता को इंगित करती है, तो प्रारंभिक जांच केवल यह पता लगाने के लिए आयोजित की जा सकती है कि संज्ञेय अपराध का खुलासा हुआ है या नहीं।

    (iii) यदि जाँच संज्ञेय अपराध के कमीशन का खुलासा करती है, तो प्राथमिकी दर्ज की जानी चाहिए। उन मामलों में जहां शिकायत प्रारंभिक जांच के बाद बंद की जाती है, ऐसे बंद होने की एक प्रति एक सप्ताह के भीतर पीड़ित या मामले के प्रथम शिकायतकर्ता को दी जानी चाहिए। जानकारी बंद करने के लिए संक्षिप्त में कारणों का खुलासा करना चाहिए।

    (iv) पुलिस अधिकारी संज्ञेय अपराध दर्ज करने से इनकार नहीं कर सकता। यदि कोई शिकायत संज्ञेय अपराध का खुलासा करती है, तो एफआईआर दर्ज करने से इनकार करने वाले अधिकारियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जानी चाहिए।

    (v) प्रारंभिक जांच का दायरा पुलिस द्वारा प्राप्त शिकायत की सत्यता को सत्यापित करना नहीं है, बल्कि केवल यह पता लगाना है कि शिकायत किसी संज्ञेय अपराध का खुलासा करती है या नहीं।

    (vi) जिन मामलों में प्रारंभिक जाँच की जानी है, वे तथ्यों और परिस्थितियों पर निर्भर करेंगे। कुछ ऐसे  मामलों की श्रेणी जिनमें प्रारंभिक जांच की जा सकती है:-

    (ए) वैवाहिक विवाद / पारिवारिक विवाद

    (b) चिकित्सकीय लापरवाही के मामले

    (c) वाणिज्यिक अपराध

    (d) भ्रष्टाचार के मामले

    (e ) सूचना दर्ज करने में असामान्य देरी के मामले, उदाहरण के लिए,  यदि कोई पीड़ित शिकायत या सुचना देने में 3 महीने की देरी करता है और देरी के कारणों को संतोषजनक ढंग से समझाए बिना मामले की रिपोर्ट पुलिस को करता है तो उनमे प्रारंभिक जाँच  सकती है।

    ऊपर प्रारंभिक जांच की जा सकती ह ।

    (vii) एक प्रारंभिक जांच को समयबद्ध किया जाना चाहिए और किसी भी मामले में, यह 7 दिनों से अधिक नहीं होनी चाहिए। देरी के कारण, यह एक थाने की जनरल डायरी में लिखी होनी चाहिए।

    (viii) पुलिस स्टेशन की जनरल डायरी या सामान्य दैनिकी एक पुलिस स्टेशन में प्राप्त सभी सूचनाओं का रिकॉर्ड है, शीर्ष अदालत ने निर्देश दिया कि संज्ञेय अपराधों से संबंधित सभी जानकारी, चाहे एफआईआर दर्ज हो या जांच शुरू की जाए, अनिवार्य रूप से GD में लिखा जाना चाहिए। जनरल डायरी और प्रारंभिक जांच करने का कारण भी जीडी में लिखा जाना चाहिए। Read also...रोजनामचा आम क्या है | Roznamcha Aam  ( रोजनामचा आम )- उत्तर प्रदेश पुलिस में | General Diary of Police in India

     निष्कर्ष

    संज्ञेय अपराधों में एक एफआईआर दर्ज करना आवशयक है क्योंकि पुलिस जनता की सेवा के लिए ही अस्तित्व में है. पीड़ित की शिकायत पर तुरंत कार्यवाही न करना असंतोष को पैदा करता है जो उसे अपराधी बना सकता है. यदि पुलिस पीड़ित के साथ न्याय नहीं करेगी तो समाज में ऐसी प्रथा जन्म ले लेगी जैसे छोटी मछली को बड़ी मछली खा जाती है. पुलिस अधिकारी को एफआईआर दर्ज करते समय पीड़ित के साथ सम्मान से व्यवहार भी करना चाहिए ताकि पीड़ित को लगे की उसकी शिकायत पर कार्यवाही निश्चित होगी।

    माननीय न्यायलय का निर्णय गौरतलब है कि प्रारंभिक जांच वैवाहिक विवादों, पारिवारिक विवादों और वाणिज्यिक अपराधों, चिकित्सा लापरवाही के मामलों, भ्रष्टाचार के मामलों से संबंधित कुछ मामलों में की जा सकती है, जो काफी सराहनीय है क्योकि ऐसे मामलों में या तो समझौते हो जाते है (जैसे वैवाहिक या पारिवारिक मामलों में) या किसी के विरुद्ध सूचना झूठी मिलने पर समाज में उसके सम्मान को काफी ज्यादा  नुकसान  होता है.

    उक्त निर्देश का पालन करने में विफल रहने वाले जांच अधिकारी के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की ही जनि चाहिए।
    Read Also...
    1. पुलिस की शिकायतों के निस्तारण की प्रक्रिया एवं समयावधि
    2. Arms Licence Verification in Hindi | Arms Licence Renewal in Hindi
    3. Police Inquiry Time Limit of UP Police in Hindi | पुलिस जाँच के लिए निर्धारित समयावधि 
    4. Police Verification Process in Hindi | Police Verification For jobs in HindiC


    Post a comment

    0 Comments