Police Core Values in Hindi | What Core Values Should be in Police


Police Core Values in Hindi | What Core Values Should be in Police

मस्कार दोस्तों, 
पुलिस राज्य सूची का विषय है, इसका मतलब यह है कि राज्य सरकार पुलिस के संबंध में कानून बना सकती है तथा कानून एवं व्यवस्था राज्य सरकार का दायित्व होता है। भारत में 29 राज्य वर्तमान में है तथा सभी राज्य में पुलिस व्यवस्था राज्य का बिषय है। पुलिस राज्य सरकार के नियंत्रण में आती है केंद्र में पैरामिलिट्री फोर्सेस जो केंद्रीय पुलिस कहलाती हैं वह केंद्र सरकार के गृह मंत्रालय के अंतर्गत आती हैं जैसे सीआपीएफ (Central Reserve Police Force )। इस लेख में, मैं  what core values should be in Police? के बारे में बताऊंगा|
पुलिस की सर्विस बहुत ही चुनौतीपूर्ण सर्विस होती है। पुलिस की सर्विस में रात-दिन जनता की सेवा करना पड़ता है। पुलिस की प्राथमिकता शान्ति व्यवस्था बनाना, कानून एवं व्यवस्था बनाना होता है, इसमें अपराधियों की धरपकड़ करना, अपराध की रोकथाम करना इत्यादि बहुत सारी महत्वपूर्ण ड्यूटीओं को शामिल किया जाता है। पुलिस की नौकरी चुनौतीपूर्ण होने के साथ-साथ जनता से प्रत्यक्ष संवाद करती है, इसलिए पुलिस के प्रति जनता का विश्वास का होना अत्यावश्यक है। पुलिस सेवा करने वाले सभी पुलिस अधिकारियों तथा कर्मचारियों में बहुत सारी आधारभूत मूल्य ( Police core values) का होना आवश्यक है जिससे पुलिस अपने कर्तव्य का निर्वहन शानदार तरीके से कर सके तथा जनता की सेवा में महत्वपूर्ण योगदान दे सकें। पुलिस की नौकरी दिन-प्रतिदिन चुनोतियों से पूर्ण होती जा रही है क्योंकि पुलिस की नौकरी में 24 घंटे काम करना पड़ता है। पुलिस सेवा में समय से अवकाश भी नहीं मिलता है।

Police Core Values | What Core Values Should be in Police



 इस कारण पुलिस सेवा में निम्नलिखित कोर वैल्यूज का होना या आधारभूत मूल्यों का होना अत्यावश्यक है-

ईमानदारी (Honesty)

पुलिस में सेवा करने वाले अधिकारी और कर्मचारियों को ईमानदार चाहिए। ईमानदार होने से जनता में पुलिस के प्रति विश्वास तथा सम्मान बढ़ता है जिससे वह अच्छे से अपने मूल्यों को बनाये रख सकते। पुलिस पर भ्रष्टाचार का आरोप लगता है जिस कारण पुलिस की छवि खराव होती है।

इंटीग्रिटी (Integrity)

इंटीग्रिटी ईमानदारी का गुण है। जो व्यक्ति मजबूत इरादों और सिद्धांतों के होते हैं जिनके ईमान को कोई नहीं डिगा सकता, ऐसे व्यक्ति में यह गुण होता है। पुलिस अधिकारी में यह गुण होना अति आवश्यक है।

पक्षपात रहित (fairness or Impartiality)

पुलिस अधिकारी तथा कर्मचारियों में निष्पक्षता का गुण होना आवश्यक है। यदि कोई पुलिस अधिकारी जनता की कोई शिकायत का निस्तारण कर रहा है या अन्य कर्तव्य का निर्वहन कर रहा है तो उसे अपने कर्तव्य को पक्षपात रहित करना चाहिए यानि किसी भी पक्ष के साथ उसे पक्षपात नहीं करना चाहिए। पीड़ित को न्याय दिलवाना चाहिए।

सम्मान (Respect)

पुलिस अधिकारियों में जनता का सम्मान की भावना होनी चाहिए, क्योंकि पुलिस का उद्देश्य जनता की सेवा करना ही है। पुलिस का उद्देश्य जनता की सेवा के साथ-साथ तथा शांति व्यवस्था बनाना है, जिससे जनता निर्भय होकर जीवन का निर्वहन कर सके। जब पीड़ित पुलिस के पास शिकायत लेकर जाए तो उसमें डर की भावना नहीं होनी चाहिए।

दक्षता (Efficiency)

पुलिस के कर्तव्य की प्रकृति अपने आप में ही कठिन होती है। पुलिस अधिकारी व कर्मचारियों में अपने कार्य को जो भी कर रहे या दिए जाएं दक्षता के साथ  करने की क्षमता होनी चाहिए। कोई भी कार्य दिया जाए उसे बहुत ही बेहतर ढंग से करने की क्षमता होनी चाहिए।

बुद्धिमान (Inteligent)

 पुलिस के अधिकारियों तथा कर्मचारियों में बुद्धिमत्ता का गुण होना चाहिए जिससे वह सही गलत में फर्क कर सकें तथा पीड़ित के साथ न्याय कर सकें।

अनुशासन (Discipline)

पुलिसकर्मियों में अनुशासन होना चाहिए। यह बहुत महत्वपूर्ण है। यदि अनुशासन नहीं होगा तो पुलिस जैसा डिपार्टमेंट काम नहीं कर पाएगा। अनुशासन के कारण यूनिटी ऑफ कमांड से कर्तव्यों  को आसानी से कराया जा सकता है।

निष्ठा (Dadication)

पुलिस अधिकारियों में अपने कर्तव्य को निष्ठा पूर्वक करने का गुण होना चाहिए। पुलिस यदि अपना कार्य निष्ठा पूर्वक करेगी तो वह अपराध की रोकथाम भी कर पाएगी तथा कानून व्यवस्था भी बना पाएगी।

निष्कर्ष

पुलिस अधिकारी में उपरोक्त गुणों का होना अत्यावश्यक है। अतः संक्षेप में कह सकते हैं कि भारत में पुलिस सेवा में उपरोक्त बहुत से आधारभूत मूल्यों (police core values) का होना आवश्यक है। यदि उपरोक्त core values पुलिस सेवा में है तो वह अपने कर्तव्यों का ईमानदारी पूर्वक ना केवल निर्वहन करेंगे, बल्कि शांति व्यवस्था, कानून एवं व्यवस्था तथा अपराध की रोकथाम इत्यादि जैसे कर्तव्य में सफलतापूर्वक अपने कर्तव्य का निर्वहन कर पायेंगे।
आशा करता हूं कि आपको इस लेख से police service की core values के बारे में जानकारी मिली होगी।

Read Also...
  1. FIR (First Information Report) क्या है | FIR kaise darj kare  
  2. Zero FIR (शून्य प्राथमिकी) किसे कहते है | पुलिस #ZeroFIR (#0FIR) पर कैसे कारवाही करती है | Zero First Information Report Kya hai
  3. पुलिस FIR दर्ज न करे तो क्या करें
  4. FIR और NCR में अंतर
  5. झूठी FIR से कैसे बचें | How to Cancel Fake FIR (Section 482 Crpc)
  6. FIR कौन दर्ज करा सकता है
  7. FIR के लिए प्रार्थना पत्र में क्या क्या लिखा जाता है
  8. FIR police complaint format in hindi
  9. Legal Action for False FIR



Post a Comment

0 Comments